चार लाइन जिंदगी के नाम

जिंदगी बहुत छोटी हैं
उसे खुल कर जियो
अपने जीवन में लक्ष्य रखो
उसे पूरा करने की उम्मीद रखो
मेहनत जी जान कर करो
उन चार लोगो के बारे में मत सोचो
जो तुझे गिराने में लगे हैं
अपने मां बाप के बारे में सोचो
जो तेरे लिए दिन रात एक कर रहे हैं
ये दुनिया मतलबी है यार
तू कुछ करेगा तो जलेगा
नहीं करेगा तो बुराई करेगा
ये हाल है दुनिया का
इसके खेल को मत देख
मां बाप खुश
तो तू भी खुश हो जाया कर
जिंदगी चार दिन की है….
मैं और मेरे अल्फाज
आशिका जैन
– हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने